Home / Hindi News / क्या मनमोहन सिंह कांग्रेस के सबसे बड़े चमचे हैं ?
manmohan-singh-sonia-gandhi

क्या मनमोहन सिंह कांग्रेस के सबसे बड़े चमचे हैं ?

हमारे प्रिय पाठकगण, भारत में कालेधन को जड़ से समाप्त करने और देश को खोखला करने वाले टैक्स चोरो को उनके बिल से बाहर निकालने के लिए पिछले महीने की 8 तारीख को भारत सरकार ने 500 और 1000 रूपए के नोट को बंद कर दिया. (Demonetized Rs 500 & 1000 Notes declared them unfit for making transactions).

नोटबंदी के तुरंत बाद देश भर मे हाहाकार फ़ैल गया. सारे लोग पुराने नोट को बैंक में बदलवाने के लिए दौड़ पड़े और 100 रूपए के नोट के लिए लोग एटीएम की तरफ लपके. परिणामस्वरुप देशभर के अधिकांश एटीएम  खाली हो गए. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अचानक नोटबंदी करने से कालेधन को रखने वाले लोगो को अपनी नोट को बदलवाने का कोई मौका नहीं मिला और यही कारण है की कालेधन के बड़े कारोबारी आजकल मोदी सरकार और बीजेपी के खिलाफ आग उगल रहे है.

यह सही है की सरकार और बैंक की तरफ से होने वाले mismagement की वजह से आम लोगो को अपना नोट एक्सचेंज करवाने के काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. करीब 88 लोग नोटबंदी के बाद फैले अफवाह, अव्यवस्था और अफरातफरी की वजह से मारे गए. लोगो को कैश की कमी का सामना करना पड़ा. भारत सरकार ने व्यवस्था सही करने के लिए डिजिटल पेमेंट को बढ़ाने के लिए अनेक उपायों की घोषणा की और 50 दिन का समय माँगा. कुल मिलकर अब हालात सामान्य हो रहे है.

नोटबंदी से होने वाले प्रमुख फायदों पर एक नजर दौड़ाये:

  1. सरकार को टैक्स न देकर कालाधन रखने वाले भ्रष्ट कारोबारियों, नेताओ, व्यापारिक घरानों का कालाधन बर्बाद हो गया. दिन- प्रतिदिन कालेधन के कारोबारी अपने बिल से बाहर निकल रहे है और कालाधन रिकवर हो रहा है,
  2. भारतीय इकॉनमी को बर्बाद करने के लिए नकली भारतीय करेंसी छापने वाले पाकिस्तान को तगड़ा नुकसान हुआ है,
  3. कश्मीर में लोफर मुस्लिमो युवको को 500 और 1000 रूपए देकर भारतीय सेना पर पत्थरबाजी करवाने वाले कश्मीर के पाकिस्तान प्रेमी आतंकवादी मुल्लो का बिज़नस बंद हो गया और तो और गिलानी के घर से कालाधन बरामद हुआ,
  4. करीब 20 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर वाले देह व्यपार का बिज़नस मंदा पड़ गया,
  5. देशभर में डिजिटल मनी के प्रयोग में काफी बढ़ोतरी हुई है,
  6. भारतीय रूपए का क्रय मूल्य बढ़ गया है.
  7. एक ही सीरीज वाले नकली भारतीय नोट का पर्दाफाश हो रहा है. कांग्रेस और रिज़र्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन पर नकली नोट छाप पर घोटाले का आरोप लग रहा है,
  8. बैंकिंग इंडस्ट्री में काम करने वाले भ्रष्ट लोगो के काले कारनामे का पर्दाफाश हो रहा है. अभी एक्सिस बैंक पर कालेधन को सफ़ेद करने का आरोप लगा है. अनेक बैंक अधिकारियो को घपले बाजी में शामिल होने की वजह से नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है. यहाँ तक की नोटों की हेराफेरी में शामिल RBI( रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया) के एक वरिष्ट अधिकारी को जेल की हवा खिलाई गई है.

ऊपर की लिस्ट से पता चलता है की भारत सरकार द्वारा किये गए नोटबंदी से देश को बहुत फायदा हुआ है लेकिन देश के कुछ भ्रष्ट नेताओ ( जो कालेधन में डीलिंग करते है) को मोदी सरकार का यह फैसला हजम नहीं हो रहा है. नोटबंदी का विरोध करने वाले कुछ प्रमुख राजनितिक नेताओ की कुंडली भी खंगाल लेते है-

नेता राजनितिक दल प्रोफाइल आर्थिक अपराध/आरोप
लालू यादव राष्ट्रीय जनता दल (बिहार) बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री, मुर्ख राजनेता, मसखरा, जोकर, आर्थिक अपराधी
  • 950 करोड़ रूपए के चारा घोटाले का दोषी,
  • 5 साल की सजा,
  • बेल पर बाहर आकर बिहार में गुंडागर्दी कर रहे है और जंगलराज कायम कर रहे है.
  • बिहार को बर्बाद करने वाला राजनितिक कुत्ता
मुलायम सिंह समाजवादी दल उत्तर प्रदेश राज्य का पूर्व मुख्यमंत्री, समाजवादी दल का मुखिया
  • आय से अधिक संपति का आरोप,
  • घपले घोटाले करके बेहिसाब धन बनाने वाले नेता,
  • 5-10 करोड़ रूपए में चुनावी टिकेट बेचने वाला भ्रष्ट नेता( आरोप)
मायावती बसपा उत्तर प्रदेश राज्य का पूर्व मुख्यमंत्री, अपने आप को दलितों और मुसलमानों के वोटो का ठेकेदार समझने वाली नेता
  • ताज घोटाले का आरोप
  • आय से अधिक संपति रखने का आरोप
  • 5-10 करोड़ रूपए में चुनावी टिकेट बेचने वाली  भ्रष्ट नेता( आरोप)
सोनिया गाँधी कांग्रेस कांग्रेस प्रेसिडेंट, दुनिया की चौथी सबसे धनी राजनेता( वो भी बिना किसी रोजगार या बिज़नस के) भ्रष्टाचार की देवी, करीब 55 हजार करोड़ रूपए की मालकिन (आरोप)
P. चिद्बम्बरम कांग्रेस पूर्व वित्त मंत्री, कांग्रेस प्रेसिडेंट का वफादार और आज्ञाकारी चमचा UPA 1 और 2 में हुए घोटाले में शामिल रहने के आरोप, जांच जारी
दिग्विजय सिंह कांग्रेस मध्य प्रदेश राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री, कांग्रेस प्रेसिडेंट का आज्ञाकारी चमचा, हिन्दू विरोधी और मुल्ला प्रेमी नेता   व्य्प्पम घोटाले के जनक, मध्य प्रदेश को बर्बाद करने वाला राजनितिक नेता
राहुल गाँधी कांग्रेस मुखातापूर्ण बयान देने के बदनाम, सोशल मीडिया में मनोरंजन का जरिया जब दादा परदादा 7 पुशतो के खर्चो के लिए घपले घोटाले करके पैसे का इंतजाम कर के चले गए हो तब किस बात की चिंता
मनीष तिवारी कांग्रेस पूर्व सूचना और प्रसारण मंत्री, कांग्रेस प्रेसिडेंट का पालतू चमचा UPA 1 और 2 में हुए घोटाले में शामिल रहने के आरोप
कपिल सिब्बल कांग्रेस कांग्रेस नेता, पूर्व कानून मंत्री, कांग्रेस प्रेसिडेंट का पालतू चमचा UPA 1 और 2 में हुए घोटाले में शामिल रहने के आरोप
अखिलेश यादव समाजवादी दल मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश केवल मुस्लिमो के लिए सरकारी फण्ड के दुरुपयोग का आरोप
अरविन्द केजिवाल आम आदमी पार्टी (दिल्ली) मुख्यमंत्री, दिल्ली विबिन्न घोटाले में शामिल रहने का आरोप,

नौटंकीबाज नेता

ममता बनर्जी तनमूल कांग्रेस ( वेस्ट बंगाल)   मुख्यमंत्री, वेस्ट बंगाल, मुल्लाप्रेमी नेता     शारदा घोटाले में शामिल रहने के आरोप,
केवल मुस्लिमो के लिए सरकारी फण्ड के दुरुपयोग का आरोप
मनमोहन सिंह कांग्रेस प्रोफेसर, RBI के पूर्व गवर्नर, अर्थशाष्त्री, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, कांग्रेस प्रेसिडेंट का आज्ञाकारी नौकर और चमचा UPA 1 और 2 में हुए घोटाले को अपनी मौन सहमति देने का आरोप

 

ऐसे बहुत सारे नेता है जिन्होंने नोटबंदी का विरोध किया था. सबको इस लिस्ट में शामिल करना संभव नहीं है.

नोटबंदी के बारे में मनमोहन सिंह द्वारा भारतीय संसद में दिया गया बयान- नोटबंदी संगठित लूट है, इससे गरीबो का नुकसान होगा और देश के अर्थव्यस्था के विकास की रफ़्तार धीमी हो जायेगी.  अगर कोई मुर्ख नेता नोटबंदी का विरोध करे तो समझ में आता है, लेकिन एक अर्थशास्त्री द्वारा कालेधन को रोकने के लिए किये गए ईमानदार प्रयास को संगठित लूट बताना से दिल को ठेस पहुची है. मनमोहन सिंह के बारे में बताने से पहले कांग्रेस पार्टी में प्रचलित “चमचागिरी संस्कृति” की एक झलक आपको दिखलायेंगे.

ये  विडियो जरुर देखे:

कांग्रेस में चमचागिरी संस्कृति:

कांग्रेस की स्थापना एक अँगरेज़ ने अँगरेज़ अधिकारियो के मनोरंजन के लिए किया था. बाद में इस पार्टी में भारतीय भी शामिल होते गए. लगभग 125 वर्ष पुरानी यह पार्टी आजकल अपने बुरे दौर से गुजर रही है. कांग्रेस पार्टी मूल रूप से हिन्दू विरोधी, भारत विरोधी और इस्लामिक आतंकवाद प्रेमी लोगो का दल है. इस पार्टी ने-

  1. भारत का विभाजन कराया जिसमे भारत का करीब 30% हिस्सा काटकर मुसलमानों के अलग देश पाकिस्तान बनाया गया. 10 लाख हिन्दुओ और सिखों के कत्लेआम में इस पार्टी के लोगो का भी योगदान था,
  2. कांग्रेस ने पिछले 60 वर्षो के राज में भारत का इस्लामीकरण किया और जमकर घोटाले किये जिस वह आजादी के 70 साल बाद में भारत में भीषण बेरोजगारी, गरीबी, भ्रष्टाचार, इस्लामिक आतंकवाद जैसी समस्या है, लेकिन इस पार्टी के नेताओ के आर्थिक सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा है. कांग्रेस ने देश की मीडिया, फिल्म इंडस्ट्री, नयायपालिका – लगभग हर जगह अपने पालतू कुत्ते बैठा रखे है. तभी कांग्रेसी नेताओ द्वारा समय समय पर फैलाया जाने वाले गंध भारत के सेक्युलर लोगो को नहीं दिखता है.
  3. कांग्रेस के  राज में ही पाकिस्तान ने भारतीय राज्य कश्मीर के करीब 55% भाग पर कब्ज़ा किया जो अभी तक उसके कब्जे में है. चीन ने भारतीय प्रांत अक्साई चीन पर कब्ज़ा जमाया (कांग्रेस राज में ).
  4. कांग्रेस के नेताओ ने देश में अनगिनत दंगे करवाकर देश की सत्ता हासिल की और देश का बेहिसाब नुकसान किया.

तथाकथित गाँधी खानदान कांग्रेस को अपनी बपौती समझता है. कांग्रेस में अगर आपको रहना है तो इसके नेता राहुल गाँधी की चमचागिरी करनी होगी.  कांग्रेसी नेता देशहित से पहले सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी का हित पहले सोचते है और अपने पद की गरिमा के अनुरूप आचरण करने के बजाये अपने शीर्ष नेतृत्व की जी- हजूरी करते रहते है.

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कांग्रेस का प्रमुख चमचा है. नोटबंदी पर एक बोलबचन के बाद हम इस कुछ तीखे सवाल पूछना चाहते है:

  1. अगर नोटबंदी संगठित लूट है तो कांग्रेसी सरकार द्वारा 1946 में किया गया नोटबंदी संगठित लूट नहीं है क्या?
  2. आपने प्रधानमंत्री रहते हुए अनेक घोटाले करवाए. वो क्या जनकल्याण योजना था?
  3. आकडे कहते है जब जब आप ने देश की बागडोर संभाली, तब- तब देश में अनगिनत घोटाले हुए और देश का नुकसान हुआ. क्या आप सारे समय काम करने के बजाये झख मार रहे थे क्या?
  4. क्या आप देश की जनता को मुर्ख समझते है?

हमारी राय:

हम मानते है पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपने व्यक्तित्व के अनुरूप आचरण करने के बजाये भ्रष्ट विदेशी महिला सोनिया गाँधी चापलूसी कर रहे है. माफ़ करना मनमोहन सिंह, तुम इज्जत के लायक ही नहीं हो. अपना ज्ञान अपने पास की रखो तो अच्छा है.

जय हिन्द ! जय भारत !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CAPTCHA Image

*